Papers & Essays

Media Literacy

  • Home / Adhunikta ki daud in hindi essay | Просмотров: 43933 | #45769
  • Adhunikta ki daud in hindi essay


    adhunikta ki daud in hindi essay

    Baapu ke vichaaron ke prachaar-prasaar par kharch kar ke hinsak hoti is duniya ko ahinsa ka paathh yaad karaana aaj manavta ke liye ati aawashyak ho gaya hai lekin Shashtri ji jaise netaaon ko bhula dena kisi bhi tarah se sahi nahi hai. Aese me aadarsh purush ki jeewan katha,usse jude prasang desh ko ghanghor andhere me prakash ki kiran saabit ho sakti hai.रामानुजन के वक्तव्य को किंचित परिवर्तित करते हुए कहें तो, एक ही सातत्य या स्पेक्ट्रम के क्रमशः परिवर्तित होते हुए हिस्से के रूप में देखा जाना चाहिए। कई बार इसका एक छोर दूसरे छोर से काफी अलग लगता है, लेकिन है वो उसी स्पेक्ट्रम का हिस्सा। इस स्पेक्ट्रम में दिखायी पड़ने वाले भाषायी परिवर्तन को चोटियों और घाटियों के रूपक के जरिये व्याख्यायित कर सकते हैं। चोटियाँ इस स्पेक्ट्रम के वो बिन्दु हैं, जहाँ उनका अन्तर आत्यन्तिक रूप में दिखाई पड़ता है और घाटियाँ वह स्थल हैं, जहाँ ये तीक्ष्णता क्रमशः ढलान पर उतरते हुए एक दूसरी भाषायी चोटी की ओर चढ़ने लगती है। ये भाषायी घाटियाँ ऐसे पाॅकेट हैं, जहाँ एक भाषा या बोली का रजिस्टर धीरे-धीरे दूसरी भाषा के रजिस्टर में तब्दील होने लगता है। मनुष्य के शरीर में फैली हुई नसों की तरह ये भाषाएँ परस्पर जुड़ जाती हैं। इनकी सीमाएँ धँुधली, अस्पष्ट और खुली हुई हैं। इसीलिए इन भाषाओं/बोलियों के रजिस्टर दूसरी बोली या भाषा से, आधुनिक युग से पहले तक, जुड़े हुए दिखायी पड़ते हैं। राजनीतिक-आर्थिक सांस्कृतिक कारणों से इनमें से किसी एक भाषायी रजिस्टर का दायरा बढ़ जाता है और उसे ही कुछ लोग भाषा या राष्ट्र की भाषा के रूप में पुरस्कृत करने लगते हैं। इसमें भी कोई हर्ज नहीं, लेकिन समस्या तब पैदा होती है जब किसी भाषायी रजिस्टर विशेष को राष्ट्र की भाषा के रूप पुरस्कृत करने की प्रक्रिया में अन्य भाषायी रजिस्टरों को जनपदीय बोली के रूप में अवमूल्यित या तिरस्कृत कर दिया जाता है। यहाँ तक कि उन्हें साहित्य और कला की भाषा के रूप में भी आगे जारी रखने के औचित्य का निषेध कर दिया जाता है। यदि हम भाषा और बोली के युग्म में हिन्दी प्रदेश की भाषायी प्रकृति पर विचार करने के बजाय उनके अन्तर्सम्बन्ध के नैरूतर्य पर विचार करें तो हम उन गलतियों को दोहराने से बच सकते हैं, जिनका सामना हिन्दी जाति की एक भाषा खड़ी करने के यांत्रिक रवैये के कारण अभी तक हम करते रहे हैं। उत्तर भारत की भाषाओं/ बोलियों में नैरन्तर्य का एक बड़ा प्रमाण ये है कि क्रिया रूपों अथवा उच्चारण में कुछ अन्तर के बावजूद इनके शब्द भण्डार में कोई विशेष अन्तर नहीं है। ये सही है कि अठारहवीं शताब्दी में हिन्दी के उस भाषायी रजिस्टर में जिसे आज उर्दू कहते हैं, बोल-चाल के शब्दों को निकालकर फारसी और अरबी के शब्दों की खूब भर्ती की गई। नतीजा ये हुआ कि इस परम्परा में लिखे गये साहित्य का दायरा अरबी-फारसी जानने वाले कुछ अभिजनों तक ही सीमित हो गया और यहाँ की लोक भाषाओं से उसका सम्बन्ध कमजोर पड़ गया। इस प्रवृत्ति की आलोचना करना तो ठीक था, लेकिन इस परम्परा में लिखे गए साहित्य की उपलब्धियों का सिरे से निषेध कर ‘नए चाल में ढली’ हिन्दी में साहित्य लिखने और उसे इस परम्परा से अलग दिखाने के लिए जैसा साहित्य लिखा गया, उसमें इस परम्परा की साहित्यिक उपलब्धियों से कुछ भी न ग्रहण करने का भाव ज्यादा था। यदि भारतेन्दु युग में उर्दू की परम्परा से नई हिन्दी का सम्बन्ध-विच्छेद हुआ तो द्विवेदी युग की उपलब्धि ये है कि इस दौर में ब्रजभाषा की परम्परा से भी उसे काट दिया गया। रीति विरोधी अभियान चलाकर ये सिद्ध करने का प्रयास किया गया कि ब्रजभाषा में आधुनिक युग की संवेदना वहन करने की सामथ्र्य नहीं है। ब्रजभाषा में तो पतनशील सामंती मानसिकता की कामुक शंृगारिक कविताएँ ही लिखी जा सकती हैं। रीतिकालीन शृंगारिक कविताओं को ही नहीं, स्त्री लोकगीतों को भी विक्टोरियन नैतिकता के प्रभाव में अश्लील घोषित कर दिया गया जबकि इतिहास यह है कि आधुनिक योरोपीय भाषाओं में भी अपनी क्लासिक साहित्य और ज्ञान को आत्मसात कर कुछ-कुछ वैसा ही साहित्य लिखा गया था जैसा रीतिकालीन कविताओं में दिखाई पड़ता है इस बात को पूरी तरह नजरअंदाज कर दिया गया कि सूर, मीरा से लेकर न जाने कितने भक्त कवियों ने इसी भाषा में कविताएँ लिखी हैं। रीतिकालीन दौर में भी शंृगारिक कविताएँ लिखने वाले कवियों से ज्यादा ऐसे कवियों की संख्या है, जिन्होंने भक्ति-प्रधान कविताएँ लिखी हैं। यही नहीं, कथित रीतिकाल के दौर में ही 60 से भी अधिक संख्या में वीरकाव्य-लिखे गए हैं। दैनंदिन जीवन से सम्बन्धित समस्याओं पर लिखी गई कविताओं के साथ-साथ नीतिपरक कविताएँ भी इस दौर में कम नहीं लिखी गईं। स्वयं भारतेन्दु हरिश्चन्द्र, नरोत्तमदास और जगन्नाथ दास ‘रत्नाकर’ जैसे आधुनिक दौर के कवियों के यहाँ भी वैसी कविताएँ नहीं मिलतीं, जिनका रीति-विरोधी अभियान के नाम पर विरोध किया गया। असल में उर्दू के दावे को खारिज करना तो आसान था, लेकिन उर्दू के दावे को खारिज करने के बाद ब्रजभाषा के दावे को खारिज करना बहुत मुश्किल था। साहित्यिक उपलब्धि की दृष्टि से तो खड़ी बोली कहीं से ब्रज भाषा के सामने खड़ी ही नहीं होती। उर्दू को दरकिनार करने के बाद साहित्य की भाषा के रूप में व्यापकता और विस्तार की दृष्टि से भी ब्रजभाषा का दायरा खड़ी बोली के मुकाबले बहुत विस्तृत था। गुजरात से लेकर बंगाल तक ब्रजभाषा में साहित्य लिखने की परम्परा दिखायी पड़ती है। खड़ी बोली के पक्ष में दूसरा तर्क ये दिया गया कि ब्रजभाषा में गद्य का पर्याप्त विकास नहीं हुआ, लेकिन यदि उर्दू परम्परा के विकास को हिन्दी से अलग कर दें, तो उस समय तक हिन्दी में ही गद्य का कौन सा विकास दिखाया जा सकता था। ये सही है कि फोर्ट विलियम काॅलेज, ईसाई मिशनरियों और अन्य लोगों के सहयोग से उन्नीसवीं शताब्दी में हिन्दी गद्य का तेजी से विकास हुआ। जो शोध हुए हैं, उनके आधार पर ये कहना भी पूरी तरह सही नहीं है कि ब्रजभाषा में गद्य का विकास ही नहीं हुआ। सबसे पुराने व्याकरण और शब्दकोश ब्रजभाषा के ही बनाये गये और अनेक संस्कृत ग्रन्थों का ब्रजभाषा-गद्य में अनुवाद किया गया। इन सारे तथ्यों पर ध्यान देने के बाद ये बात समझ में आती हैं कि रीतिविरोधी अभियान के नाम पर वास्तव में ब्रजभाषा के साहित्यिक-वैचारिक अवदान का निषेध किया जा रहा था। चूँकि हिन्दी नवजागरण की अवधारणा किसी न किसी रूप में आधुनिकता के प्रोजेक्ट के साये में विकसित हो रही थी और इस प्रोजेक्ट के मुताबिक पहले से चली आ रही सांस्कृतिक और वैचारिक परम्पराएँ व्यर्थ और पिछड़ी हुई मान ली गई थीं, इसलिए आधुनिकता के प्रोजेक्ट को हिन्दी में उतारने के लिए हिन्दी का ऐसा रजिस्टर ज्यादा उपयुक्त लगा, जिस पर परम्परा का कोई बोझ ही नहीं था। खड़ी बोली में आधुनिक युग से पहले साहित्यिक-वैचारिक लेखन की कोई उल्लेखनीय परम्परा नहीं थी, इसलिए उसमें पूर्व परम्परा से सम्बन्ध-विच्छेद करने की कोई जरूरत ही नहीं थी। परम्परा की चिन्ता किये बिना, जो चाहें, जैसे चाहें, लिख सकते थे। उल्लेखनीय है कि मुगलकाल में उर्दू का विकास भी कुछ इसी तरह हुआ था। प्रसिद्ध इतिहासकार मुजफ्फर आलम ने अपने एक लेख में लिखा है कि उर्दू में लेखन के पीछे दो शर्तें लगाई गई थीं, पहली यह कि इसकी लिपि फारसी होगी, दूसरी यह कि बोल-चाल की भाषा में शब्द न उपलब्ध होने पर फारसी या अरबी से शब्द लिये जायेंगे। खड़ी बोली उर्दू में बिल्कुल नये सिरे से साहित्य लिखना ब्रज-भाषा की तुलना में इसलिए आसान था, क्योंकि ब्रजभाषा में साहित्य की एक पूर्व परम्परा थी, जबकि खड़ी बोली में साहित्य लिखने की कोई उल्लेखनीय परम्परा नहीं थी। खड़ी बोली उर्दू की तरह ही खड़ी बोली हिन्दी में जिस तरह के साहित्य-लेखन की शुरूआत हुई, उसका न तो उर्दू की परम्परा से, न ब्रजभाषा की परम्परा से कोई उल्लेखनीय सम्बन्ध दिखायी पड़ता है। लोकसाहित्य की परम्परा से सम्बन्ध स्थापित करने का तो खयाल भी नहीं आता। परम्परा से विच्छेद या परम्परा से मुक्ति के इन दोनों उदाहरणों की विशद चर्चा तो यहाँ संभव नहीं है, फिर भी खड़ी बोली हिन्दी में लिखे गए आधुनिक साहित्य पर दो चार बातें करना बेहद जरूरी है। रामविलास शर्मा ने लिखा है कि हिन्दी नवजागरण में अंग्रेजी शिक्षा और पश्चिमी ज्ञान की कोई उल्लेखनीय भूमिका नहीं रही। थोड़ी रियायत देते हुए उन्होंने ये जरूर जोड़ दिया है कि अंग्रेजी साहित्य की मानवतावादी और प्रगतिशील परम्परा भी रही है और उससे सीखने में कोई हर्ज नहीं। लेकिन आधुनिक हिन्दी साहित्य की गम्भीरता से पड़ताल करने पर ये बात स्पष्ट हो जाती है कि उसकी मूल प्रेरणा और आदर्श अंग्रेजी साहित्य ही रहा है। ज्यादातर आधुनिक हिन्दी साहित्य पश्चिम से प्रेरणा लेते हुए और उसी के मानदण्ड पर लिखा गया है। कहने वाले चाहें तो कह सकते हैं कि ये अंग्रेजी साहित्य की नकल है। लेकिन अंग्रेजी के प्रसिद्ध उत्तर औपनिवेशिक चिंतक होमी भाभा ने नकल में भी अकल की बात करते हुए मिमिक्री और हाइब्रिडिटी (संकरता) के सिद्धान्तों के सहारे औपनिवेशिक देशों में लिखे गए साहित्य के महत्व का बहुत जोर-शोर से प्रतिपादन कहते हुए इस प्रकार के साहित्य की उपनिवेशवाद-विरोधी भूमिका को रेखांकित करने का गंभीर प्रयास किया है। होमी भाभा के इस तर्क को सामान्य रूप से आज भी दोहराया जा रहा है। लेकिन वास्तव में ये एक पैराडाइम शिफ्ट था। प्रसिद्ध इतिहासकार रणजीत गुहा के अनुसार पैराइाइम के इस युद्ध में पश्चिम की विजय हुई; अद्भुत पर अनुभूति की विजय हुई। विद्वानों ने रणजीत गुहा के इस तर्क की आलोचना करते हुए दिखाया है कि पश्चिम के विपरीत भारतीय यथार्थवादी उपन्यास विस्मय, फैन्टेसी और काव्यत्व से पूर्णतः विच्छिन्न नहीं थे। इसलिए ये कहना सही नहीं है कि इस पैराडाइम शिफ्ट के कारण पहले से चली आ रही भारतीय साहित्यिक परम्परा का पूरी तरह निषेध हो गया। ये तर्क सही है, पर असल बात ये है कि इस पैराडाइम शिफ्ट के बाद साहित्य, संस्कृति और ज्ञान-विज्ञान की बुनियाद आधुनिकता की ज्ञानमीमांसा पर टिक जाती है और भारतीय ज्ञानमीमांसा की परम्परा का इस्तेमाल सिर्फ खाली जगहों को भरने के लिए, एक ऐसा संस्करण तैयार करने के लिए किया जाता है, जिसकी पैकेजिंग भारत में की गई हो। इसे कुछ इस तरह समझना चाहिए, जैसे उत्पादन भले ही भारत में हो रहा हो लेकिन उसकी टेक्नाॅलजी पश्चिम से ली गई हो। इसी तर्क को आगे बढ़ाते हुए कहना चाहिए कि लिखा भले ही भारतीय भाषाओं में जा रहा है, लेकिन उसका विन्यास और उसकी अन्तर्दृष्टि पश्चिम से ली गई है। भारतीय भाषाओं में लिखने से कोई साहित्य भारतीय नहीं हो जाता और न ही भारतीय भाषाओं में चिन्तन करने से कोई चिन्तन भारतीय हो जाता है। उत्तर औपनिवेशिक चिन्तकों द्वारा तैयार माॅडल के विकल्प के रूप में मैं एक दूसरे किस्म के माॅडल का प्रस्ताव करने की जुर्रत कर रहा हँू। थोड़ी देर के लिए कल्पना कीजिए कि भारतीय ज्ञानमीमांसा और साहित्यिक परम्परा की नियामक भूमिका को स्वीकार करते हुए आधुनिकता की ज्ञानमीमांसा से भी हमने कुछ तत्व लिये होते तो उसकी सूरत और सीरत कुछ और होती। राजनीतिक और सामाजिक चिन्तन के क्षेत्र में गाँधी ने और काव्य के क्षेत्र में कुछ ऐसी ही कोशिश रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने की थी। किन्तु ये इकलौती कोशिशें थीं और परवर्ती चिन्तकों और रचनाकारों ने इन्हें परम्परावादी, रहस्यवादी कहकर नकार दिया। परिणाम ये हुआ कि साहित्य, संस्कृति और ज्ञान के क्षेत्र में जो भी चिन्तन हुआ उसकी नियामक प्रेरणा पश्चिमी आधुनिकता की ज्ञानमीमांसा से तय होती रही। हिन्दी में तो सामान्य रूप से आज जैसी स्थिति है, वो और भी विडम्बनापूर्ण है। यहाँ तो उस ज्ञान को, जिसका विकास पश्चिम में 30-40 के दशक में हुआ था, आज भी भारतीय चिन्तन के रूप में पूरे भक्तिभाव से दोहराया जा रहा है। जबकि पश्चिम में भी इस ज्ञान को अब कोई तवज्जो नहीं दे रहा। इसीलिए आधुनिक युग में भारतीय भाषाओं में जो साहित्य लिखा गया है, उसमें ज्यादा ऐसा नहीं है, जिसे सही मायने में भारतीय साहित्य कहा जा सके। जो है, वह पश्चिमी आधुनिकता के सर्वव्यापी प्रभाव के बावजूद है। यह अकारण नहीं है कि यद्यपि आधुनिक हिन्दी साहित्यिक चिन्तन में भक्ति आन्दोलन के महत्व का बढ़चढ़कर बखान किया जाता है, किन्तु विरली ही कोई ऐसी रचना होगी, जिसे पढ़कर लगे कि ये रचना भक्ति संवेदना से गुजकर लिखी गई है। परम्परा का किताबी ढंग से बखान तो खूब किया गया, लेकिन परम्परा से रचनात्मक स्तर पर कुछ भी सीखने और ग्रहण करने के चिन्ह कुछ ही रचनाओं में दिखाई पड़ते हैं। मतलब बिल्कुल साफ है, परम्परा का गुणगान कीजिए और कुछ भी लिखते समय उसे भूल जाइए। कुछ विद्वान गरीबी, भूखमरी, किसान, मजदूर जैसे विषयों पर लिखी गई रचनाओं के आधार पर ये सिद्ध करने की कोशिश करते हैं कि इसकी प्रेरणा भक्तिकालीन साहित्य से आई है। अब उन्हें कौन समझाए कि भक्ति काव्य-संवेदना से उसका कोई सम्बन्ध नहीं है। इस प्रकार के विषयों पर लिखी गई रचनाओं का प्रेरणास्रोत पश्चिमी चिन्तन और यथार्थवादी साहित्यिक परम्परा है। भक्ति आन्दोलन न भी होता तो भी इन विषयों पर इसी ढंग से लिखा जाता। दूसरे देशों में, जहाँ भक्ति साहित्य जैसी कोई परम्परा नहीं है, इन विषयों पर थोड़े-बहुत हेर-फेर के साथ इसी ढंग से लिखा गया है। इन विषयों पर लिखी गई रचनाओं को देखने से शायद ही कहीं ऐसी प्रतीति होती हो कि उन्हें भारतीय सांस्कृतिक एवं बौद्धिक परम्परा को आत्मसात करके लिखा गया है। परम्परा के मूल्यांकन से समृद्ध रचनाएँ हिन्दी में ज्यादा नहीं हैं। कुल मिलाकर भारतेन्दु की कुछ रचनाओं, प्रेमचन्द और रेणु के कथा-साहित्य, प्रसाद और मुक्तिबोध की कविताओं के अतिरिक्त कौन सी ऐसी रचनाएँ हैं, जिन्हें भारतीय परम्परा के बीच से निकली हुई रचनाओं के रूप में चिन्हित किया जा सके। विडम्बना ये है कि आधुनिक साहित्य में जहाँ भक्ति साहित्य का सचमुच असर दिखाई पड़ता है, उसे रहस्यवादी कह कर खारिज कर दिया जाता है। इसका सटीक उदाहरण है कि भक्ति काल का सबसे अधिक गुणगान करने वाले रामविलास शर्मा ने मुक्तिबोध की कविताओं को रहस्यवादी कहकर खारिज कर दिया। जबकि उनकी कविता के टेक्स्चर में संत साहित्य की संवेदना की गहरी छाप है। हबीब तनवीर और विजयदान देथा की रचनाओं के बारे में जरूर ऐसा कहा जा सकता है कि वे भारतीय साहित्यिक परम्परा से अनुस्यूत और उसे आगे बढ़ाने वाली रचनाएँ हैं, लेकिन उन पर विचार करने के लिए एक स्वतंत्र लेख की दरकार होगी। उल्लेखनीय है कि प्रगतिशील लेखक संघ (1936) के पहले घोषणा-पत्र में भक्तिकालीन साहित्य को पलायन का साहित्य कह कर खारिज कर दिया गया था। प्रेमचन्द ने इस अधिवेशन के बहुप्रशंसित अध्यक्षीय भाषण में आधुनिक युग से पहले के समूचे साहित्य को मौजमस्ती और मनबहलाव का साहित्य करार दिया था। बाद में परम्परा के मूल्यांकन के प्रसंग में भले ही उस गलती को दुरुस्त कर लिया गया हो लेकिन रचनात्मक लेखन और वैचारिक चिन्तन के क्षेत्र में परम्परा के सकारात्मक मूल्यांकन से कुछ भी ग्रहण करने की जहमत उठाने के निशान विरले ही दिखाई पड़ते हैं। पश्चिम में आधुनिकता के अभ्युदय के साथ साहित्य और कलाओं को आधुनिकता के प्रोजेक्ट के सहायक के रूप में देखने की प्रवृत्ति जोर पकड़ने लगी और उन्नीसवीं शताब्दी में यथार्थवाद के अभ्युदय के साथ अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँच गई। उल्लेखनीय है कि पश्चिम में समाज विज्ञान का विकास विज्ञान की पद्धति की बुनियाद पर हुआ था और इसीलिए समाज का अध्ययन करने वाले शास्त्रों को ‘समाज विज्ञान’ के रूप में प्रतिष्ठित करने पर जोर दिया गया। एंगेल्स ने तो माक्र्स के चिन्तन का महत्व प्रतिपादित करते हुए स्पष्ट रूप से लिखा कि जैसे डार्विन ने प्रजातियों के विकास के नियम खोज निकाले वैसे ही माक्र्स ने समाज के विकास के नियम खोज लिये। यही कारण है कि लम्बे समय तक माक्र्सवाद को समाज के विकास के नियमों की पहचान कराने वाला विज्ञान कहा जाता रहा। फिलहाल इस बहस के विस्तार में जाने की जरूरत नहीं है, संप्रति विचारणीय मुद्दा ये है कि साहित्य और कलाओं को आधुनिकता के प्रोजेक्ट के अधीन कर देने की परिणति क्या हुई?Please remove file Raat Me Chori Se Bachne Ki Dua after listening to this song so you do not violate copyright law.कई खेती त्यौहार (harvest festival) जैसे की संक्रांति (Sankranthi), पोंगल (Pongal) और ओणम (Onam) भी काफी लोकप्रिय त्यौहार है कुम्भ का मेला (Kumb Mela) हर १२ साल के बाद ४ अलग -अलग स्थानों पर मनाया जाने वाला एक बहुत बड़ा सामूहिक तीर्थ यात्रा उत्सव है जिसमें करोंडों हिन्दू हिस्सा लेते हैं भारत में कुछ त्योहारों कई धर्मों द्वारा मनाया जाता है। इसके उल्लेखनीय उदाहरण हैं हिन्दुओं, सिखों और जैन समुदाय के लोगों द्वारा मनाई जाने वाली दिवाली और बौद्ध धर्म और हिन्दू धर्म के लोगों द्वारा मनाई जाने वाली बुद्ध पूर्णिमा (Buddh Purnima) .SANVEDNA KA PARDHAAN MANTRI Humare desh bharat mein mein jaise-jaise vikas ho raha hai waise-waise hi desh ke shaasko avam parshasko,isthaniye netaaon se lekar pradeshik neta ya rashtriye neta mantra hon ya pardhaan mantra har kisi ke bhharshtachar ke maamle dekhne ko mil aate din samachhar patron mein netaaon ke bhharashtaachari samachar padhne ko mil jaate hain.Ii dunia ke fifth most spoken language hai jon ki 442 million log ke mother tongue hai. Hindi ke north India me dher log samjhe hai aur India bhar me iske bahut log samjhe hai. Ek larkay ne awaz di o deewani sun tera dupata zameen say ghaseeta jar aha hai. Ye bhi apna farz nibha raha hay koi choom na lay meray qadmoo ki mitti ko isi liye nishaan mitata ja raha hai. Scooter dein tu car mang lena, dokan dien tu ghar beta: dady larki dein tu oski maa mang lon? Give me Ans.is challenge for you dear A boy told his friend, "yar aik larki mujh ko hans k dekh rahi hai". HINDI LANGUAGE COMMONSENTENCES COMMONSENTENCES SU PRABHAT. इस्लामी त्यौहार जैसे की ईद-उल-फ़ित्र, ईद -उल-अधा (Eid al-Adha) और रमजान (Ramadan) भी पूरे भारत के मुसलामानों द्वारा मनाये जाते हैं भातीय व्यंजनों में से ज़्यादातर में मसालों और जड़ी बूटियों का परिष्कृत और तीव्र प्रयोग होता है इन व्यंजनों के हर प्रकार में पकवानों का एक अच्छा-खासा विन्यास और पकाने के कई तरीकों का प्रयोग होता है यद्यपि पारंपरिक भारितीय भोजन का महत्वपूर्ण हिस्सा शाकाहारी है लेकिन कई परम्परागत भारतीय पकवानों में मुर्गा (chicken), बकरी (goat), भेड़ का बच्चा (lamb), मछली और अन्य तरह के मांस (meat) भी शामिल हैं भोजन भारतीय संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो रोज़मर्रा के साथ -साथ त्योहारों में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है कई परिवारों में, हर रोज़ का मुख्य भोजन दो से तीन दौर में, कई तरह की चटनी और अचार के साथ, रोटी (roti) और चावल के रूप में कार्बोहाइड्रेट के बड़े अंश के साथ मिष्ठान (desserts) सहित लिया जाता है भोजन एक भारतीय परिवार के लिए सिर्फ खाने के तौर पर ही नहीं बल्कि कई परिवारों के एक साथ एकत्रित होने सामाजिक संसर्ग बढाने के लिए भी महत्वपूर्ण है विविधता भारत के भूगोल, संस्कृति और भोजन की एक पारिभाषिक विशेषता है भारतीय व्यंजन अलग-अलग क्षेत्र के साथ बदलते हैं और इस उपमहाद्वीप (subcontinent) की विभिन्न तरह की जनसांख्यिकी (varied demographics) और विशिष्ठ संस्कृति को प्रतिबिंबित करते हैं आम तौर पर, भारतीय व्यंजन चार श्रेणियों में बाते जा सकते हैं : उत्तर, दक्षिण, पूरब और पश्चिम भारतीय व्यंजन इस विविधता के बावजूद उन्हें एकीकृत करने वाले कुछ सूत्र भी मौजूद हैं मसालों का विविध प्रयोग भोजन तैयार करने का एक अभिन्न अंग है, ये मसाले व्यंजन का स्वाद बढाने और उसे एक ख़ास स्वाद और सुगंध देने के लिए प्रयोग किये जाते हैं इतिहास में भारत आने वाले अलग-अलग सांस्कृतिक समूहों जैसे की पारसी (Persians), मुग़ल और यूरोपीय शक्तियों ने भी भारत के व्यंजन को काफी प्रभावित किया है महिलाओं के लिए पारंपरिक भारतीय कपडों में शामिल हैं, साड़ी, सलवार कमीज़ (salwar kameez) और घाघरा चोली (लहंगा)धोती, लुंगी (Lungi), और कुर्ता पुरुषों (men) के पारंपरिक वस्त्र हैं बॉम्बे, जिसे मुंबई के नाम से भी जाना जाता है भारत की फैशन राजधानी है भारत के कुछ ग्रामीण हिस्सों में ज़्यादातर पारंपरिक कपडे ही पहने जाते हैं दिल्ली, मुंबई,चेन्नई, अहमदाबाद और पुणे ऐसी जगहें हैं जहां खरीदारी करने के शौकीन लोग जा सकते हैं दक्षिण भारत के पुरुष सफ़ेद रंग का लंबा चादर नुमा वस्त्र पहनते हैं जिसे अंग्रेजी में धोती और तमिल में वेष्टी कहा जाता है धोती के ऊपर, पुरुष शर्ट, टी शर्ट या और कुछ भी पहनते हैं जबकि महिलाएं साड़ी पहनती हैं जो की रंग बिरंगे कपडों और नमूनों वाला एक चादरनुमा वस्त्र हैं यह एक साधारण या फैंसी ब्लाउज के ऊपर पहनी जाती है यह युवा लड़कियों और महिलाओं द्वारा पहना जाता है। छोटी लड़कियां पवाडा पहनती हैं पवाडा एक लम्बी स्कर्ट है जिसे ब्लाउज के नीचे पहना जाता है। दोनों में अक्सर खुस्नूमा नमूने बने होते हैं बिंदी (Bindi) महिलाओं के श्रृंगार का हिस्सा है। परंपरागत रूप से, लाल बिंदी (या सिन्दूर) केवल शादीशुदा हिंदु महिलाओं द्वारा ही लगाईं जाती है, लेकिन अब यह महिलाओं के फैशन का हिस्सा बन गई है। भारतीय और पश्चिमी पहनावा (Indo-western clothing), पश्चिमी (Western) और उपमहाद्वीपीय (Subcontinental) फैशन (fashion) का एक मिला जुला स्वरूप हैं अन्य कपडों में शामिल हैं - चूडीदार (Churidar), दुपट्टा (Dupatta), गमछा (Gamchha), कुरता, मुन्दुम नेरियाथुम (Mundum Neriyathum), शेरवानी .इस सवाल को जगह- जगह उठाया गया है । आधुनिकता का बोध क्या है, इसे अनेक दृष्टियों से पहचानने की कोशिश की गई है । क्या इसे देश की कसौटी पर परखना संगत है या काल की कसौटी पर या देश-काल दोनों की कसौटी पर? क्या इसमें निरंतरता को खोजा और पाया जा सकता है या अनिरंतरता को? क्या आधुनिकता की प्रक्रिया के एक से अधिक दौर कविता, कहानी आदि में आए हैं? पाश्चात्य साहित्य में आधुनिकता को आधार बनाकर हिंदी साहित्य में आधुनिकता की परख कहाँ तक संगत है?The children of Haseena- lishah, Umeria and Khushiyan and brother Sameer Antulay, paid a visit on the sets.
    • Page 1 of Hindi Books Hindi books,Hindi ebooks,Hindi writer books
    • Hindi essay on adhunik bhartiya nari middot essays globalization. essay. pdf adhunikta. Swatantrata, female liberty, independence, aaj ki adhunik bhartiya.
    • Motivational stories for students in hindi kahani motivate you about "how to be successful in recent time" and lack of patience safalta ka rahasya
    • Find below some essays on Corruption in Hindi language for students in 100.

    adhunikta ki daud in hindi essay

    Republic Day ka main function Delhi mein hota hai, jisse sara bharat TV ke madhyam se apne ghar pe baith ke dekhta hai.अमरिका के विमान हाइजैक करके उन्होंने ये विध्वंस किया और अमरिका को चुनौती दी.Shashtri ji ko desh ka pradhaan mantra hone ke naate nahi balki unki saarv janik jeevan me naitikta, saadgi,sanvedansheelta aur utkrisht vichaaron ki wajah se yaad kiya jaata rahega.Khud se hatkar parivaar aur samaaj ko bhi dekhna shuru Karen to hum paayenge ki parivaar aur samaaj ko bhi unse achchhe bartav ki chahat parivaar ki aur bhi apne kartavye nazar aayenge.राजकुमार, न्यू एफ 14, हैदराबाद कॉलोनी, बी.एच.यू., वाराणसी, 221005 मो.Lekin aaj hum aadhukikaran ki andhi daud ki wajah se shiksha ke mahattv ko bhool chuke hain.Know answer of question : what is meaning of Adhunikta in Hindi dictionary?Maithili, the speech of North Bihar became fully established by 1300.4.महँगाई ने कर दिए, राशन-कारड फेसपंख लगाकर उड़ गए, चीनी-मिट्टी तेल।‘क्यू’ में धक्का मार किवाड़ें बंद हुई दूकान की,जय बोल बेईमान की !is khanh‍d men un sabhi tath‍von ko shamil kiya gaya hai jo bharat ki snsh‍kriti aur virasat ke pratik hain.

    adhunikta ki daud in hindi essay

    Raaste mein, Sudaama ji chalte chalte thak kar ped ke neeche so gaye, jaagte hi Sudaama ji ashcharya hua ki Dwarka nagari aagayi hai.: Estate Planning and the End of Inefficient Lawyers ebook rar Calendrical Calculations Millennium edition free download Publisher: Rizzoli (April 29, 2014)Language: English ISBN-10: 0847842940ISBN-13: 978-0847842940Weight: 2.4 pounds One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book buy cheap One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) purchase book One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book for Windows Phone One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book Sky Drive One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book pdf One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) audio book One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) download english One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) free download mobile pdf One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) download One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) tpb free torrent One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) download torrent Extra Torrent One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) bookstore access selling online ebay One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book from htc online One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book for mac One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book text format One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) no registration read macbook full sale One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) free txt One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) free download mobile pdf One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book format djvu One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book Deposit Files One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book drive One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) download full book One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) free epub One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) audiobook free One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book for android One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book cheap book One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) ebook android pdf One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book One Drive One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book in English One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) ebook free download One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) download free cloud One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) access read find get pc One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) download torrent Extra Torrent One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book from htc online One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) read store amazon sale mobile One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) full ebook One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book Bit Torrent free One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book from motorola read One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book i Cloud One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) free android audio selling djvu One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) download torrent One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) fb2 online find book сhapter One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) You search pdf online pdf One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) free macbook read One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book torrent One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) phone wiki free e Reader book One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book Media Fire One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) download without account One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) ebay spanish ebook book page One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) book Deposit Files One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) story pocket amazon download djvu One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) thepiratebay torrent download One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) e Reader online One Hundred & One Beautiful Small Towns in Italy (Rizzoli Classics) download torrent 3c157b94b8 Nick Brandt: On This Earth, A Shadow Falls download pdf Every Young Woman's Battle: Guarding Your Mind, Heart, and Body in a Sex-Saturated World (The Every Man Series) book pdf Meat Eater: Adventures from the Life of an American Hunter Everything about Theatre! simhakutty malayalam Lolitaguy Ls Magazine Issue 12 lsm 12 05 02 mp3 downloadinstmank .Nandu and Bhavani (Urmila Matondkar), the lovely cabaret dancer who's tagging along for the ride, assume the package contains gold; both are unpleasantly surprised when it turns out to be something deadlier: a nuclear bomb. The soundtrack was re-released in Tamil as a non-film album titled Ottam and was dubbed in Telugu as 50–50.Jo bachche aaj bachche hain, wahi kal ke aadarsh naagrik banenge. We see that many educational boards change their syllabus and adopt new methodologies. Let’s talk about innovation in education and the main points of educational innovations. To explain these questions, we discuss about three words; problems, solutions and opportunities.वास्तव में शिक्षा का अर्थ ही व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास है। किताबी ज्ञान के अलावा विद्यार्थियों के व्यक्तित्व का सकारात्मक विकास करना भी शिक्षक की जिम्मेदारी होती है। अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए परंपरागत तरीकों के अलावा ऐसे नए तरीके भी खोजे जा सकते हैं जो विद्यार्थियों की प्रतिभा की पहचान करने में सक्षम हों। और ऐसे कुछ नए कार्य नवाचार की श्रेणी में आ सकते हैं। नई चीजें किसे अच्छी नहीं लगतीं?Dusri or isi din bhoot poorv Pradhaan mantri Laal Bahadur Shashtri ki jayanti par unke sandeshon ke prachaar-prasaar ke liye ek bhi paisa kharch nahi kiya gaya.ओसामा बिन लादेन / Osama Bin Laden का जन्म सौदी अरेबिया के बड़े बिजनेस मॅन के घर में हुवा. अल – अक्सा, मक्का, और मदीना इन इस्लाम के तीन पवित्र मशजिद का नवनिर्माण करने के काम में लादेन के बांधकाम कंपनी का सहभाग था. अफगानिस्तान, सौदा अरेबिया, अल्जेरिया, इजिप्त पाकिस्तान आदि देशो से आये हजारो युवाकोके नेतृत्व का काम धीरे धीरे ओसामा बिन लादेन के साथ में आया.Nirdhan hone ke kaaran Shri Krishna ko dene ke liye Sudaama ji ke paas kuch bhi nahi tha.

    adhunikta ki daud in hindi essay adhunikta ki daud in hindi essay

    Page 1 of Hindi Books Hindi books iMusti

    Adhunikta ki daud in hindi essay: Rating: 61 / 100 All: 380
    Updates in this section

    Write a comment


    *CRN reserves the right to post only those comments that abide by the terms of use of the website.

    Section Contents:

    Recommended